मजदूर की बेटी पहलवान श्रावणी ने कुश्ती में जीता गोल्ड, लड़को के साथ करती थी प्रैक्टिस, आमिर खान की फिल्म दंगल जैसी है इनकी कहानी

0
50

मंजिल उन्हीं को मिलती है, जिनके सपनों में जान होती है, पंख से कुछ नहीं होता, हौसलों से उड़ान होती है – ये पंक्तियां महाराष्ट्र के श्रावणी पर सटीक बैठती हैं. रांची के मेगा स्पोर्ट्स कांप्लेक्स के गणपत राय इंडोर स्टेडियम में राष्ट्रीय कुश्ती चैंपियनशिप का आयोजन हुआ है. चैंपियनशिप के पहले दिन कुल 11 गोल्ड दांव पर लगे थें. वहीं पहले दिन मेजबान झारखंड के पहलवानों ने एक गोल्ड व एक सिल्वर समेत कुल पांच पदक जीते. चैंपियनशिप के पहले दिन महाराष्ट्र की पहलवान श्रावणी ने भी 36 किलोग्राम भार वर्ग में गोल्ड अपने नाम किया.

लड़को के साथ करती थी प्रैक्टिस

गोल्ड जीतने के बाद श्रावणी और उनके कोच काफी भावुक नजर आए. कोच संदीप ने प्रभात खबर को बताया कि श्रावणी ने इस दिन के लिए काफी मेहनत की थी. श्रावणी ने हरियाणा और पंजाब के पहलवानों को मात देने के लिए लड़कों के साथ प्रैक्टिस करती थी. उसकी इसी कड़ी मेहनत की नजीता है कि उन्होंने इस चैंपियनशिप में गोल्ड अपने नाम किया. कोच ने यह भी बताया कि श्रावणी बेहद सामन्य परिवार से आती हैं और उनके पिता मजदूरी करते हैं.

वहीं इस टूर्नामेंट में अभिषेक कुमार ने झारखंड के लिए पहला गोल्ड जीता. उन्होंने ग्रीको रोमन के 48 किग्रा भारवर्ग में हरियाणा के पहलवान सुशील कुमार को हराया. इसी इवेंट के 62 किग्रा वजन वर्ग में झारखंड के अभिषेक मुंडा ने ब्रांज जीता. इससे पहले भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष सह सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने चैंपियनशिप का उद्घाटन किया. तीन दिवसीय चैंपियनशिप में देश के विभिन्न राज्यों से आये 750 से अधिक पहलवान हिस्सा ले रहे हैं.

छत्तीसगढ़ का पहलवान चोटिल

चैंपियनशिप के पहले दिन मुकाबले के दौरान छत्तीसगढ़ का पहलवान चोटिल हो गया. पुरुषों के 48 किग्रा भारवर्ग में छत्तीसगढ़ के योगेश साहू को दाहिने हाथ की कोहनी में चोट लगने के कारण बीच में मुकाबला छोड़ना पड़ा. वहीं झारखंड की अंतरराष्ट्रीय महिला पहलवान चंचला कुमारी ने 42 किग्रा भारवर्ग (महिला फ्री-स्टाइल) में सिल्वर जीता. फाइनल में उन्हें हरियाणा की पहलवान रितिका के हाथों हार का सामना करना पड़ा. गोल्ड नहीं जीत पाने के कारण फूट-फूट कर रोयी. वहीं 36 किग्रा वजन वर्ग में खुशबू और 62 किग्रा वजन वर्ग में कुमकुम कुमारी ने ब्रांज हासिल किया.