झारखंड के नक्सल इलाके में बड़े पैमाने पर हो रही पोस्ते की खेती, पुलिस ने मारा छापा, अब एनडीपीएस एक्ट के तहत कार्रवाई की जायेगी

0
55

झारखंड के सरायकेला जिले के कुचाई थाना क्षेत्र के नक्सल प्रभावित क्षेत्र सियाडीह, तोरंबा, रामडीह सहित अन्य गांवों के रैयती व जंगली क्षेत्र में की जा रही अफीम की खेती को पुलिस ने नष्ट कर दिया. पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी कि पोस्ता की खेती की जा रही है. इसी सूचना पर पुलिस ने पोस्ता की खेती को नष्ट किया. हालांकि इस दौरान किसी की गिरफ्तारी नहीं हो सकी. पुलिस पदाधिकारी ने कहा कि एनडीपीएस एक्ट के तहत कार्रवाई की जायेगी.

पोस्ता की खेती की मिली थी सूचना

एसडीपीओ हरविंदर कुमार व अभियान एसपी पुरूषोत्तम कुमार ने संयुक्त रूप से जानकारी देते हुए बताया कि नक्सल प्रभावित क्षेत्र में पोस्ते की खेती की लगातार सूचना मिल रही थी. सूचना के आधार पर पुलिस टीम का गठन किया गया, जिसमें दंडाधिकारी के साथ-साथ वन पदाधिकारी को भी रखा गया था. कुचाई की सुदूरवर्ती रूगुडीह पंचायत की सोना नदी के किनारे लगभग बीस एकड़ भूभाग में पोस्ता की खेती की गयी थी. पोस्ता की फसल में फल व फूल आ गये थे. गठित टीम द्वारा इस खेती को नष्ट कर दिया गया.

एनडीपीएस एक्ट के तहत होगी कार्रवाई

एसडीपीओ ने बताया कि पोस्ता की खेती करने वालों पर एनडीपीएस एक्ट के तहत कानूनी कार्रवाई की जा रही है. एनडीपीएस एक्ट के प्रावधान के तहत जिस क्षेत्र में अवैध पोस्ता की खेती लगी है, उस क्षेत्र के सरकारी प्रतिनिधि यथा मुखिया, ग्राम प्रधान, पंचायत समिति सदस्य, मानकी मुंडा, आंगनबाड़ी सेविका, सहिया आदि अवैध पोस्ता खेती करने वालों के संबंध में पुलिस व प्रशासनिक पदाधिकारी को सूचना देना अनिवार्य है. यदि ऐसा नही करते हैं तो खेती करने वालों के साथ-साथ इनके विरूद्ध भी कार्रवाई की जायेगी. टीम में सीआरपीएफ 157 एफ के सहायक समादेष्टा प्रदीप कुमार, कुचाई थाना प्रभारी अर्जुन उरांव, खरसावां थाना प्रभारी प्रकाश रजक, पुलिस अवर निरीक्षक सनोज कुमार चौधरी, पुलिस अवर निरीक्षक श्वेता कुजूर सहित सशस्त्र बल शामिल थे.